True Shayari, Tere mere rishte ko

तेरे मेरे रिश्ते को क्या नाम दूँ,
यह नाम दूँ या वह नाम दूँ,
इस दुनिया की भीड़ मैं नाम हो जाते है बदनाम,
क्यों न अपने रिश्ते को बेनाम ही रहने दूँ.

Tere mere rishte ko kya naam dun,
Yeh naam dun ya woh naam dun,
Is duniya ki bhid mai naam ho jate hai badnaam,
Kyun na apne rishte ko benaam hi rehne dun.