Dosti Shayari, Phool bankar muskarana

Phool bankar muskarana zindagi hai,
muskarake gum bhulana zindagi hai,
jeet kar koi khush ho to kya hua,
haar kar khushiya manana bhi zindagi hai!

फूल बनकर मुस्कुराना जिन्दगी है,
मुस्कुरा के गम भूलाना जिन्दगी है,
मिलकर लोग खुश होते है तो क्या हुआ,
बिना मिले दोस्ती निभाना भी जिन्दगी है!