Dard Shayari, Teer ka dard

Teer ka dard sa lagta hai seene mein mere,
Jab kaapata dekh bhi tum muskura dete ho,
Log to murde ko bhi seene se laga kar pyar karte hain,
Phir kyun mere kareeb aakar tum har baar zakhm naya dete ho.

तीर का दर्द सा लगता है सीने में मेरे,
जब कांपता देख भी तुम मुस्कुरा देते हो,
लोग तो मुर्दे को भी सीने से लगा कर प्यार करते हैं,
फिर क्यों मेरे करीब आकर तुम हर बार ज़ख्म नया देते हो।