Dard Shayari, Dil me Hai Jo Dard

Dil me Hai Jo Dard Wo Dard Kaise Bataye,
Haste Hue Ye Zakhm Kaise Dikhaye,
Kehti Hai Ye Duniya Hame Khush Naseeb,
Magar Is Naseeb Ki Dastan Kaise Bataye!

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं,
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ,
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब,
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!

Dard Shayari, Dil me Hai Jo Dard