Dard Shayari, Aakhir kyun mujhe tum

Aakhir kyun mujhe tum itna dard dete ho,
Jab bhi mann mein aaye kyun rula dete ho,
Nigahen berukhi hain aur tikhe hain lafz,
Ye kaise mohabbat hain jo tum mujhse karte ho.

आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते हो,
जब भी मन में आये क्यों रुला देते हो,
निगाहें बेरुखी हैं और तीखे हैं लफ्ज़,
ये कैसी मोहब्बत हैं जो तुम मुझसे करते हो।