Tumne hi badle diye silsile, Shayari

Tumne hi badle diye silsile apni wafaon ke,
Warana ham to aaj bhi tum se azeez koi nahi. 💔

तुमने ही बदले दिए सिलसिले अपनी वफाओं के,
वरना हम तो आज भी तुम से अज़ीज़ कोई नही। 💔