Bewafai Shayari, Kya batau mera haal

Kya Batau Mera Haal Hai Kaisa,
Ek Din Guzarta Hai Ek Saal Jaisa,
Tadapta Hu Iss Kadar Bewafayi Mein Uski,
Yeh Tan Baanta Ja Raha Hai Kankal Jaisa. 💔

क्या बताऊँ मेरा हाल कैसा है,
एक दिन गुज़रता है एक साल जैसा है,
तड़पता हूँ इस कदर बेवफाई में उसकी,
ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है। 💔