Bewafa Shayari, Wo Paani Ki Lahro Par Kya Likh

Wo Paani Ki Lahro Par Kya Likh Raha Tha,
Khuda Jane Harf-E-Dua Likh Raha Tha,
Mahobat Me Mili Thi Nafrat Use Bhi Shayad,
Is Liye Har Sakhas Ko Shayad Bewafa Likh Raha Tha!

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था,
खुदा जाने वो क्या लिख रहा था,
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद,
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।