Bewafa Shayari, Hasino ne haseen

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,
औरों को तो क्या हमको भी तबाह किया,
पेश किया जब ग़ज़लों में हमने उनकी बेवफ़ाई को,
औरों ने तो क्या उन्होने भी वाह-वाह किया.

Hasino ne haseen bankar gunaah kiya,
auro ko to kya humko bhi tabah kiya,
Pesh kiya jab shayari mein humne unki bewafai ko,
auro ne to kya unhone bhi wah-wah kiya.

Bewafa Shayari, Hasino ne haseen