Author: iadmin

2 Line Shayari #210, Do mulakat kya hui

​दो मुलाक़ात क्या हुई हमारी तुम्हारी,
​निगरानी मे सारा शहर लग गया।

क़ैद ख़ानें हैं बिन सलाख़ों के,
कुछ यूँ चर्चें हैं तुम्हारी आँखों के।

फर्क नहीं पडता दुश्मन कि संख्या कितनी है,
जीत तो अपने बुलंद हौसलों से होती है

फर्क नहीं पडता दुश्मन कि संख्या कितनी है,
जीत तो अपने बुलंद हौसलों से होती है।

​तेरी यादों की खुशबू से, हम महकते रहतें हैं
​जब जब तुझको सोचते हैं, बहकते रहतें हैं। 💞🍃

​तेरी यादों की खुशबू से, हम महकते रहतें हैं!
​जब जब तुझको सोचते हैं, बहकते रहतें हैं। 🍃💞

बहुत ऊंचा कलाकार हूँ जिंदगी के रंगमंच का..
साहब.. मजाल है देखने वालों को मेरा दर्द दिख जाए।

रूठने का क्या फ़ायदा सुलह कर लो
खामियां उसमें भी हैं खामियां तुममे भी बहोत हैं।

बारात निकली हैं आज जज़्बातों की मेरे
देखते हैं, पैगाम-ए-दिल दिलदार तक कब पहुँचता हैं।

इसी शहर में कई साल से मेरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं,
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं।

2 Line Shayari #209, Ek Sawal puchati hai

एक सवाल पूछती है मेरी रूह अक्सर..
मैंने दिल लगाया है या ज़िंदगी दाँव पर।

किसी पर मर जाने से शुरू होती है..
मोहब्बत, इश्क़ जिंदा लोगों का काम नहीं।

ख़्वाहिश को ख़्वाहिश ही रहने देना..
ज़रूरत बन गई तो नींद नहीं आएगी। 😭 💔

कोई सुलह करा दे ज़िन्दगी की उल्झनों से,
बड़ी तलब लगी है आज मुसकुराने की। 😔

ख़्वाब रूठे हैं मगर हौसले अभी ज़िंदा हैं,
हम वो शक्स है जिससे मुश्किलें भी शर्मिंदा हैं।

मोहब्बत है गर तो मिज़ाज ज़रा नर्म रखिये,
ज़िद्दी होने से इश्क़-ऐ-सुकून में ख़लल पड़ता है। 😊

मैं इश्क हूँ, तु जीन्दगी, मैं लफ़्ज हूँ, तुमं बंदगी..
मै रिश्ता, तुमं वाद़ा कोई, मैं जुंनूनं, तु दीवानगी। 💞

कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ..
की खुदा नूर भी बरसाता है आज़माइशों के बाद

तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के..
वरना, हमे तो आज भी तुम से अज़ीज़ कोई न था। 😔

इश्क़ वो है.. जब मैं शाम को मिलने का वादा करूँ
और.. वो दिन भर सूरज के होने का अफ़सोस करे। 💖

Dard Shayari, Vo dard hi kya jo aankhon se bah jaye

Vo dard hi kya jo aankhon se bah jaye,
Vo khushi hi kya jo hothon par rah jaye,
Kabhi to samjho meri khamoshi ko,
Vo baat hi kya jo lafz aasani se keh jaye! 📚

वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए,
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए,
कभी तो समझो मेरी खामोशी को,
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें! 📚

Hindi Shayari, Badhi aasani se nikal lete hain log dusro me aib

बड़ी आसानी से निकाल देते हैं लोग दूसरों में ऐब,
जैसे उनका दिल नेकियों का नवाब है,
अपने गुनाहों पर सौ परदे डालकर,
लोग खुद कहते है ज़माना बड़ा खराब है! 🙁

Dard Shayari, Zara Si Zindagi Hai Armaan Bahut Hain

Zara Si Zindagi Hai Armaan Bahut Hain,
Humdard Nahi Koi, Insan Bahut Hain,
Dil Ka Dard Sunaye To Sunaye Kisko,
Jo Dil Ke Kareeb Hain Wo Anjaan Bahut Hain! 😔

ज़रा सी ज़िंदगी है, अरमान बहुत हैं,
हमदर्द नहीं कोई, इंसान बहुत हैं,
दिल के दर्द सुनाएं तो किसको,
जो दिल के करीब है, वो अनजान बहुत हैं। 😔

Dard Shayari, Dil ka dard ek raaz banke reh gaya,

Dil ka dard ek raaz banke reh gaya,
Mera bharosa mazak banke reh gaya,
Dilo ke saudagar se dillagi kar bethe,
Shayad is liye mera pyar mazak ban ke reh gaya. 💔

दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिल्लगी कर बैठे,
शायद इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया। 💔

Hindi Poetry, Ye kitabo ke kisse

किताबों के किस्से
ये किताबों के किस्से, ये फसानो की बातें,
निगाहों की झिलमिल जुदाई की रातें..
मोहब्बत की कसमें, निभाने के वादे,
ये धोखा वफ़ा का, ये झूठे इरादे..
ये बातें किताबी, ये नज्में पुरानी,
ना इन्की हकीक़त, ना इनकी कहानी..
न लिखना इन्हें, ना महफूज़ करना,
ये जज्बे हैं बस, इनको महसूस करना..!!

2 Line Shayari #204, Mohabbat me wo pal

मोहब्बत मे वह पल बहोत खूबसूरत होता है,
जब देखना इबादत और छूना गुनाह लगता है।

जहर का भी अपना हिसाब है मरने के लिए जरा सा,
और जीने के लिए बहुत सारा पीना पड़ता है।

दूरी ने कर दिया है तुझे और भी करीब,
तेरा ख़याल आ कर न जाये तो क्या करें हम।

मेरी तमन्ना न थी, तेरे बगैर रहने की लेकिन,
मजबूर को, मजबूर की, मजबूरीयां, मजबूर कर देती है।

कभी शब्दो में तलाश न करना वजूद मेरा.. दोस्तों,
मैं उतना लिख बोल नहीं पाता.. जितना महसूस करता हूँ।

ख्वाहिशें आज भी खत लिखती है हमे बेखबर,
इस बात से है कि, जिंदगी अब अपने पते पर नही रहती।

ख़्वाहिशें नहीं होतीं, किसी उम्र की मोहताज,
कुछ शौक अगर जीने लगे तो.. साँसे भी कम पड़ जाती हैं।

दिल कहता है की लिख दू, इक नजम तेरे नाम की,
तुझे खुश ना कर पाऊ तो ये ज़िन्दगी किस काम की।

ना किया कर अपने दर्द को शायरी में ब्यान ऐ नादान दिल,
कुछ लोग टूट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर।

प्यार वो नहीं जो हाँसिल करने के लिये कुछ भी कर दे,
प्यार वो है जो उसकी ख़ुशी के लिये अपने अरमान छोड़ दे।

Sad Shayari, Kasti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya

Kasti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya,
Meri Talash Ka Bhi To Jariya Badal Gaya,
Na Shakl He Badli Na He Badla Mera Kirdaar,
Bas Logo Ke Dekhne Ka Nazariya Badal Gaya!! 😔

कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
न शकल बदली न ही बदला मेरा किरदार,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया! 😔

2 Line Shayari Collection #186

गुलशन तो तू है मेरा, बहारों का मैं क्या करूँ,
नैनों मैं बस गए हो तुम, नज़ारों का मैं क्या करूँ। 💕

तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है,
वरना सीने मे सांसे भी पराई सी लगती है। 💕

किसी से प्यार करो और तजुर्बा कर लो,
ये रोग ऐसा है जिसमें दवा नहीं लगती।

थोड़ा दर्द भी सहलो महोबत के लिए,
थोड़ा इश्क़ भी करलो सेहत के लिए।

है छोटी सी ज़िन्दगी तकरारें किस लिए,
रहो एक दूसरे के दिलों में यह दीवारें किसलिए।

मैं तेरे खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
तुम मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आते हो।

अभी तो चन्द लफ्जो मे शिकायत है तुझे मैने,
अभी तो मेरी किताबों मे तेरी तफसिर बाकी है।

मत फेक पानी में पथर उसे भी कोई पिता है,
मत रहो यु उदास तुम्हे देख कर भी जिंदगी मे कोई जीता है।

दिल में ना हो जुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती,
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती।

सोचता हूँ गुलशन मे काटो के साथ साथ बबूल भी होगे,
क्या हुआ अगर उसने बेवफाई की उसके अपने उसूल भी होगे। 💔

2 Line Shayari Collection #180

ज़र्रा ज़र्रा बिखर गया तेरी याद में,
कतरा कतरा ही सही दर्द में मोहलत दे दे।

किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल,
कोई रहता भी नहीं और कमबख्त बिकता भी नहीं।

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है की अब रोया नहीं जाता।

उठा लो दुपट्टे को ज़मीन से कहीं दाग़ न लग जाए,
पर्दे में रखो चेहरे को कहीं आग न लग जाए।

तारे और इंसान में कोई फर्क नहीं होता,
दोनो ही किसी की ख़ुशी के लिऐ खुद को तोड़ लेते हैं।

कुछ यूँ उतर गए हो मेरी रग-रग में तुम,
कि खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है।

प्यार आज भी तुझ से उतना ही है बस,
तुझे एहसास नही और हमने जताना भी छोड़ दिया।

इतना दिल से ना लगाया करो मेरी बातो को,
कोई बात दिल में रह गई तो हमे भुला नहीं पाओगे।

मुझे तेरा साथ जिंदगीभर नहीं चाहिये,
बल्कि जब तक तु साथ है तब तक जिंदगी चाहिये।

आइना और दिल वैसे तो दोनो ही बडे नाज़ुक होते है लेकिन,
आइने मे तो सभी दिखते है और दिल मे सिर्फ अपने दिखते है।

Hindi Poetry, Itani becheni se

इतनी बेचैनी
इतनी बेचैनी से तुमको किसकी तलाश है,
वो कौन है जो तेरी आंखों की प्यास है,
जबसे मिला हूं तुमसे यही सोचता हूं मैं,
क्यों मेरे दिल को हो रहा तेरा एहसास है,
जिंदगी के इस मोड़ पे तुम आके यूं मिले,
जैसे कि कोई मंजिल मेरे इतने पास है,
एक नजर की आस में तकता हूं मैं तुझे,
अब देख तेरे खातिर एक आशिक उदास है। 🌹

Hindi Poetry, Raah dekhte dekhte

राह देख़ते-देख़ते तेरी, बहुत देर हो गई,
कल तलक मैं तेरी थी, आज ग़ैर हो गई..
न पूछा तूने कुछ भी, न क़हां मैंने कुछ भी,
यूँ ही मोहब्बत की शाम-ओ-सहर हो गई..
अनकहे जज्बात, भीतर ही दफ़न हो गए,
जुदाई की वो घडियाँ पल में कहर हो गई..
मर-मर के ग़ुजरती हैं तेरे बिना ये ज़िन्दगी,
तेरे नाम जो साँसे थी, आज ज़हर हो गई..

2 Line Shayari, Hu pareshan main

हूँ परेशान मैं ये कहने के लिये,
तू ज़रूरी है मुझको ज़िन्दा रहने के लिये।


एक बार निगाहे उठाकर देख तो लो,
हम नही चाहते हमे कोई और देखे।


मजबूरियों से लड़कर रिश्तों को समेटा है,
कौन कहता है मुझे रिश्तें निभाने नहीं आते।


इससे ज़्यादा तुम्हें कितना क़रीब लाऊँ मैं,
कि तुम्हें दिल में रख कर भी दिल नहीं भरता।


यकीन जानो ये महोब्बत इतनी भी आसान नहीं,
हज़ारों दिल टूट जाते हैं एक दिल की हिफाज़त में।


मैंने पूछा कैसे जान जाते हो मेरे दिल की बातें,
वो बोली जब रूह में बसे हो फिर ये सवाल क्यूँ।


वो रख ले कहीं अपने पास हमें कैद करके,
काश की हमसे कोई ऐसा गुनाह हो जाये।


खुद को वो चाहे लाख मुकमल समझे,
लेकिन मेरे बिना वो मुझे अधूरा ही लगती है।


काश इक दिन ऐसा भी आये हम, तेरी बाहों में समा जाएँ,
सिर्फ हम हो और तुम हो और, वक्त ही ठहर जाए।


मुहब्बत होंठों से नहीं, उनसे निकली मीठी बातों से है..
क्यों कि मासूमियत चेहरे से कहीं ज्यादा, उसकी भोली आँखों में है।

Heart Touching Shayari, Kisi ne ke khub likha hai

Kisi ne ke khub likha hai:
Kal na hum honge na koi gila hoga,
Sirf simti hui yaadon ka silsila hoga,
Jo lamhe hai chalo haskar bita le,
Jaane kal zindagi ka kya faisla hoga.

किसी ने क्या खूब लिखा है:
कल न हम होंगे न गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिललिसा होगा,
जो लम्हे हैं चलो हंसकर बिता लें,
जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा।