Search Results for: mohabbat

HIndi Poem, Tere libas se mohabbat

Tere libas se mohabbat ki hai,
tere ehsas se mohabbat ki hai,
tu mere paas nahi fir bhi,
maine teri yaad se mohabbat ki hai,
kabhi tune bhi mujhe yaad kiya hoga,
maine un lamho se mohabbat ki hai,
jinme ho sirf teri aur meri baatein,
maine un alfaaz se mohabbat ki hai,
jo mahkate ho teri mohabbat se,
maine un jazbat se mohabbat ki hai,
aaoge kab wapis meri jaan,
maine tere intezaar se mohabbat ki hai!

तेरे लिबास से मोहब्बत की है,
तेरे एहसास से मोहब्बत की है,
तू मेरे पास नहीं फिर भी,
मैंने तेरी याद से मोहब्बत की है,
कभी तू ने भी मुझे याद किया होगाी,
मैंने उन लम्हों से मोहब्बत की है,
जिन में हो सिर्फ तेरी और मेरी बातें,
मैंने उन अल्फाज से मोहब्बत की है,
जो महकते हो तेरी मोहब्बत से,
मैंने उन जज्बात से मोहब्बत की है,
तुझ से मिलना तो अब एक ख्वाब लगता है,
इसलिए मैंने तेरे इंतजार से मोहब्बत की है.

2 Line Shayari, Aaj phir utani mohabbat

आज फिर.. उतनी ही मोहब्बत से बुलाओ ना..
कह दो.. मिलने का मन कर रहा है.. आओ ना।


दीवाना दौड़ के कोई लिपट न जाये,
आंखों में आंखें डालकर देखा न कीजिए।


देखा किये वह मस्त निगाहों से बार-बार,
जब तक.. शराब आई कई दौर चल गये।


देखा है मेरी नजरों ने, एक रंग छलकते पैमाने का,
यूँ खुलती है आंख किसी की, जैसे खुले दर मैखाने का।


देखो न आंखें भरकर किसी के तरफ कभी,
तुमको खबर नहीं जो तुम्हारी नजर में हैं।


दिखा के मदभरी आंखें कहा ये साकी ने,
हराम कहते हैं जिसको यह वो शराब नहीं।


देखो तो चश्मे-यार की जादूनिगाहियाँ,
हर इक को है गुमां कि मुखातिब हमीं से हैं।


निगाहे-लुत्फ से इकबार मुझको देख लेते है,
मुझे बेचैन करना जब उन्हें मंजूर होता है।


तेरा ये तीरे-नीमकश दिल के लिए अजाब है,
या इसे दिल से खींच ले या दिल के पार कर।


पीते-पीते जब भी आया तेरी आंखों का खयाल,
मैंने अपने हाथ से तोड़े हैं पैमाने बहुत।

Love Shayari, Tujhe Mohabbat Karna

Tujhe Mohabbat Karna Nahi Aata,
Mujhe Mohabbat Ke Siva Kuch Nahi Aata,
Zindagi Guzarne Ke Do Tarike Hote Hai,
Ek Tujhe Nahi Aata Aur Ek Mujhe Nahi Aata.

तुझे मोहब्बत करना नही आता,
मुझे मोहब्बत के सिवा कुछ नही आता,
ज़िन्दगी गुज़ारने के दो ही तरीके है,
एक तुझे नही आता एक मुझे नही आता।

2 Line Shayari, Ajeeb khel hai ye mohabbat

अजीब खेल है ये मोहब्बत का,
किसी को हम न मिले, कोई हमें ना मिला।


उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी,
उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी।


तमाम नींदें गिरवी हैं हमारी उसके पास,
जिससे ज़रा सी मुहब्बत की थी हमनें।


कितने सालों के इंतज़ार का सफर खाक हुआ,
उसने जब पूछा.. कहो कैसे आना हुआ।


हाथों की लकीरे पढ़ कर रो देता है दिल,
सब कुछ तो है मग़र तेरा नाम क्यूँ नहीं है।


इश्क अभी पेश ही हुआ था इंसाफ के कटघरे में,
सभी बोल उठे यही कातिल है.. यही कातिल है।


ना जाने वो कितनी नाराज़ है मुझसे..
ख्वाब में भी मिलती है तो.. बात नहीं करती।


जी करता है तेरे संग भीगू मोहब्बत की बरसात मे,
और रब करे.. उसके बाद तुझे इश्क़ का बुखार हो जाए।


उनका इल्ज़ाम लगाने का अंदाज ही कुछ गज़ब का था,
हमने खुद अपने ही ख़िलाफ गवाही दे दी।


ज़िंदगी में मोहबत का पौधा लगाने से पहले ज़मीन परख लेना,
हर एक मिटटी की फितरत में वफ़ा नहीं होती दोस्तो।

Love Shayari, Meri mohabbat hai woh

मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही!

Meri mohabbat hai woh koi majboori to nahin,
Woh mujhe chahe ya mil jaye, zaroori to nahin,
Yeh kuch kam hai ke basa hai meri saanson mein,
Woh saamne ho meri aankhon ke zaroori to nahin.

Love Shayari, Ishq mohabbat to sab

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!
गम-ऐ-जुदाई से सब डरते हैं
हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत!
हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं!

Ishq mohabbat to sab karte hai,
gam-a-judai se sab darte hai,
hum to ishq karte ha na to mahabbat,
hum to bas aapki ek mushkurahat pane ke liye taraste hai.

Sad SHayari, Uski mohabbat ka

उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!

Unki mohabbat ka abhi nishan baki hai,
Naam hothon par hai, Jaan abhi baki hai
Kya hua agar dekh kar muh pher leti hai wo..
Tasalli toh hai ki Chehre ki pehchaan abhi baki hai!

Love Shayari, Mohabbat ka Imtihaan

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!

Mohabbat ka Imtihaan aasan nahi,
Pyaar sirf paane kaa naam nahi,
Muddatein beet jaati hai kissi ke Intzaar mein,
Yeh sirf pal-do-pal ka kaam nahi.

Sad Shayari, Mohabbat ki zanjeer

मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता हे,
कुछ अपनी तफलीक से डर लगता हे.
जो मुझे तुजसे जुदा करते हे,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता हे.

Mohabbat ki zanjeer se der lagta hai,
kuch apni taqdeer se der lagta hai,
jo mujhey tujh se juda kerti hai,
mujhey hath ki uss lakeer se der lagta hai!

LOve Shayari, Karte hain tumse mohabbat

करते हैं हम तुमसे मोहब्बत,
हमारी खता यह माफ़ करना,
है अगर बदनाम मोहब्बत हमारी,
तुम प्यार को बदनाम मत करना।