Yaad Shayari, Jab khamosh aankho se

Jab khamosh aankho se baat hoti hai.
Aise hi mohabbat ki shurwat hoti hai.
Tumhare hi khayalo mein khoye rehte hai.
Pata nahi kab din kab raat hoti hai ?

जब खामोश आँखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
पता नही कब दिन और कब रात होती है

Heart Torching Shayari, Khamosh chehre pe

Khamosh chehre pe hazaro pahre hote hain,
Hasti huyi aankho me zakhm gahre hote hain,
Jinko, sada ke liye bhool jana accha samjhte hain,
Shayad unse hi dil ke rishte gahre hote hain!

खामोश चेहरे पर हजार पहरे होते है,
हंसती आंखों में भी जख्म गहरे होते है,
जिनसे अक्सर रूठ जाते है हम,
असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है! 💞

Hindi Shayari, Meri khamoshiyon

Meri khamoshiyon mein bhi fasana dhoondh leti hai,
badi shatir hai ye duniya bahana dhoondh leti hai,
hakeekat zid kiye baithi hai chaknachur karne ko,
magar har aankh phir sapna suhana dhoondh leti hai!

मेरी खामोशियों में भी फसाना ढूंढ लेती है,
बड़ी शातिर है ये दुनिया बहाना ढूंढ लेती है,
हकीकत जिद किये बैठी है चकनाचूर करने को,
मगर हर आंख फिर सपना सुहाना ढूंढ लेती है!

Dard Shayari, Khamoshi se bikherna

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है|

Khamoshi Se Bikharna Aa Gaya Hai,
Hamian Ab Khud Ujarna Aa Gaya Hai,
Kisi Ko Bewafa Kehte Nahi Hum,
Hamian B Ab Badlna Aa Gaya Hai,
Kisi Ki Yad Main Rote Nahi Hum,
Hamian Chup Chap Jalna Aa Gaya Hai,
Gulabun Ko Tm Apne Pass Rakho,
Hamian Kantun P Chalna Aa Gaya Hai.

Hindi Shayari Collection, Khamoshi bahut kuch kehti hai

ख़ामोशी बहुत कुछ कहती हे,
कान लगाकर नहीं, दिल लगाकर सुनो।


मुझे सिर्फ दो चीजों से डर लगता है,
1 तेरे रोने से और 2 तुझे खोने से।


मुझसे इश्क, मुहब्बत, प्यार न कर,
अपनी ज़िन्दगी को तू बेकार न कर।


नाराज़गी तो यहा हर किसी में भरी है,
मेरे दिल को ही देख लो अपना होकर भी नाराज है।


हर किसी पर दोस्तों ऐतबार मत करना,
धोखेबाजों के लिए ज़िन्दगी बर्बाद मत करना।

Khamoshi Shayari, Wo Dard Hi Kya

वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए!
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए!
कभी तो समझो मेरी खामोशी को!
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें!

Wo Dard Hi Kya Jo Aankhon Se Beh Jaye,
Wo Khushi Hi Kya Jo Hoton Par Reh Jaye,
Kabhi To Samjho Meri Khamoshi Ko,
Wo Baat Hi Kya Jo Lafz Aasani Se Keh Jaye.

True Shayari, Khamosh baithe toh

खामोश बैठें तो लोग कहते हैं
उदासी अच्छी नहीं,
ज़रा सा हँस लें तो
मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं !

Khamosh baithe toh log kehte hai..
Udaasi acchi nahi,
Zara sa hans le toh
Log muskuraane ki wajah pooch lete hain..!!

Ek Khamosh Halchal Bani Zindagi, Shayari

Ek Khamosh Halchal Bani Zindagi,
Gahra Thahra Hua Jal Bani Zindagi,
Tum Bina Jaise Mahlon Mein Beeta Hua,
Urmila Ka Koi Pal Bani Zindagi,
Najar Aakash Mein Aas Ka Ek Diya,
Tum Bujhati Rahi Main Jalata Raha,
Tum Ghazal Ban Gayi, Geet Mein Dhal Gayi,
Manch Se Main Tumhe Gungunata Raha.

Tum Chali Toh Gayi Man Akela Hua
Saari Yadon Ka Purjor Mela Hua
Jab Bhi Loti Nayi Khusbuon Mein Saji
Man Bhi Bela Hua Tan Mhi Bela Hua
Khud Ke Aaghat Par Vayarth Ki Baat Par
Ruthati Tum Rahi Main Manata Raha
Tum Ghazal Ban Gayi Geet Mein Dhal Gayi,
Manch Se Main Tumhe Gungunata Raha..

Main Tumhe Dhundhne Savarg Ke Dawar Tak,
Roj Jata Raha Roj Aata Raha.