Search Results for: Dushman

2 Line Attitude Shayari, Dushmano ko saja

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।


बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ।


खोटे सिक्के जो अभी अभी चले हैं बाजार में,
वो कमियाँ निकाल रहे हैं मेरे किरदार में।


अभी शीशा हूँ सबकी आँखों में चुभता हूं,
जब आईना बनूँगा सारा जहाँ देखेगा।


हम बसा लेंगें एक दुनिया किसी और के साथ,
तेरे आगे रोयें अब इतने भी बेगैरत नहीं हैं हम।


बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म,
अब जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम।


ज़मीं पर रह कर आसमां छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।


हमारी हैसियत का अंदाज़ा तुम ये जान के लगा लो,
हम कभी उनके नही होते, जो हर किसी के हो जाए।


अपनी शख्शियत की क्या मिसाल दूँ यारों
ना जाने कितने मशहूर हो गये मुझे बदनाम करते करते।


इतना भी गुमान न कर अपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं।

2 Line SHayari, Dosto se Acche Dushman Nikle

दोस्तो से अच्छे तो मेरे दुश्मन निकले,,
कमबख्त हर बात पर कहते हैं कि तुझे छोडेंगे नहीं.


वहीँ तारीख वहीँ दिन वहीँ समा बस वो लोग नहीं जिन्होंने बना दिया यादगार हर लम्हा.


जींदगी गुझर गई सारी कांटो की कगार पर,
और फुलो ने मचाई है भीड़ हमारी मझार पर!!


सुनो तुम मेरी जिद नहीं जो पूरी हो…
तुम मेरी धड़कन हो जो जरुरी हो..


और कितने इम्तेहान लेगा वक़्त तू
ज़िन्दगी मेरी है फिर मर्ज़ी तेरी क्यों


यकीन नहीं होता फिर भी कर ही लेता हूँ…
जहाँ इतने हुए एक और फरेब हो जाने दो…


जो लम्हा साथ हैं, उसे जी भर के जी लेना.
कम्बख्त ये जिंदगी.. भरोसे के काबिल नहीं है.!


तुम भी अच्छे … तुम्हारी वफ़ा भी अच्छी,
बुरे तो हम है जिनका दिल नहीं लगता तुम्हारे बिना…


सुनो! बार बार मेरी ‪‎प्रोफाइल‬ खोल के ‪#तस्वीर‬ ना देखा करो…
नज़र ‪‎मोहब्बत‬ की होगी तो नज़र लग जाऐगी !!‪


मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे,,,
तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी..

#Priya

Dushman Shayari, Ye Keh Kar Mere Dushman

Ye Keh Kar Mere Dushman,
Mujhe Hansta Chor Gaya,
K Tere Apne Hi Kafi Hai,
Tuhje Rulane K Liye.

Inspirational Shayari, Dushman ko hazaar mauke do

Dushman ko hazaar mauke do,
Ki woh tumhara dost ban jaye.
Lekin dost ko ek bhi mauka mat do,
Ki woh tumhara dushman ban jaye.

Happy New Year, Chalo dushman se mulakaat

Chalo dushman se mulakaat kare,
Naya saal aaya hai nayi baat kare,

Majhab k naam pe kyu danga-fasaad,
Yahi sawalaat aaj har shaks se kare,

Na rahe koyi bhi bhuka pyasa,
Milkar jamane k aise halaat kare,

Jo kare atyachaar begunaho par,
Dundkar unko chalo hawalaat kare,

Gujarish h jamane se roz yahi ,
Mulk mein aman ki barsaat kare.

Wish You A Happy New Year

Dost Bankar Is Kadar Dushmani Ki Hai, Shayari

Dost Bankar Is Kadar Dushmani Ki Hai,
Jaise Naajuk Aaine Se Dillagi Ki Hai,
Jo Ik Najar Dekhne Se Hi Bikhar Gaya,
Yun Rokar, Basar Humne Zindagi Ki Hai.

Hindi Shayari Poem, Mehnat se utha hoon

Mehnat se utha hoon, mehnat ka dard jaanta hoon,
aashma se jyada, zami ki kdra jaanta hoon,

Lacheela ped tha jo jhel gaya aandhiya,
main magroor darakhton ka hashra jaanta hoon,

Chote se bada banana aashan nahi hota,
zindagi mein kitna zaroori hai sabra jaanta hoon,

Mehnat badhi to kishmat bhi badh chali,
chhalon me chipee lakeeron ka asar jaanata hoon,

Bewaqt, be wajah, be hisab mushkura deta hoon,
aadhe dushmano ko to yun hi hara deta hoon,

Kafi kuch paaya par apna kuch nahi maana,
Kyunki ek din raakh main milna hai me ye jaanta hoon!

मेहनत से उठा हूँ, मेहनत का दर्द जानता हूँ,
आसमाँ से ज्यादा जमीं की कद्र जानता हूँ।

लचीला पेड़ था जो झेल गया आँधिया,
मैं मगरूर दरख्तों का हश्र जानता हूँ।

छोटे से बडा बनना आसाँ नहीं होता,
जिन्दगी में कितना जरुरी है सब्र जानता हूँ।

मेहनत बढ़ी तो किस्मत भी बढ़ चली,
छालों में छिपी लकीरों का असर जानता हूँ।

बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ!!

काफी कुछ पाया पर अपना कुछ नहीं माना,
क्योंकि एक दिन राख में मिलना है ये जानता हूँ।

2 Line Shayari, Tujhe kitna Kaha Tha ki

Tujhe kitna Kaha Tha ki Mujhe Apna Na Bana,
Ab Muje Chor Ke Duniya Mein Tamasha Na Bana.


Le Lo Wapas Wo Aansu Wo Tadap Aur Wo Yaadain Saari,
Nahi Koi Jurm Hamara to Phir Yeh Sazayein Kaisi.


Chalo mana ki hume pyaar ka izhaar karna nahi aata,
Jazbaat na samajh sako itne nadaan to tum bhi nahi.


Vajah Nafrato Ki Talashi Jati Hai,
Mohabbat To Bevajhah Ho Jati Hai.


WO Matlab Se Milte,
Aur Hame To Bas Milne Se Matlab Tha.


Kanch Jaise Hote Hai Tanha Logo Ke Dil..
Kabhi Toot Jate Hain Toh Kabhi Tod Diye Jate Hain.


Tanhai to Sathi hai apni zindagi k har ek pal ki,
Chalo yeh shikwa bhi door hua k kisi ne sath na diya.


Tere Na Hone Se Zindagi Mein Bas Itni-Si Kami Rehti Hai,
Main Chahe Laakh Muskurau In Aankho Mein Nami Rehti Hai.


Sochte Hai Hum Bhi Seekh Le Be-rukhi Karna..
Humne Apni QaDar Kho Di Hai Har ek ko Mohabbat Dete Dete.


Duniya ki aag me jalna to Muqqadar bn gaya hai..
Jis se kehte hai apna haal-e-dil wohi badnaam karte hai.


Mujhe Paa kar Shayad Tumhe Kuch Ehsaas Na Ho.. Lekin
Ek Din Mujhe Khone Ka Ghum Tumhe Bohat Tarpaayega.


Dushman samne aane se darte thae..
aur wo pagli dil se khel kar chalі gayi.


Ab Kategi Zindagi Sukun Se,
Ab Hum Bhi Matlabi Ho Gaye Hai.


आज सड़क पर निकले तो तेरी याद आ गई,
तूने भी इस सिग्नल की तरह रंग बदला था।

Dosti Shayari, Gunha Karne Se Darte Hai

गुनाह करके सजा से डरते हैं,
ज़हर पी के दवा से डरते हैं,
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमें,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है।

Gunah Karke Saza Se Darte Hain,
Zahar Pee Ke Dawa Se Darte Hain,
Dushmano Ke Sitam Ka Khauff Nahi,
Hum Toh Doston Ki Wafa Se Darte Hain!

Hindi Shayari, Mujhe Dekh kar Hi

Mujhe Dekh kar Hi Dar Jate Hain Log,
Raston Me Milte Hi Katrate Hain Log,
Meri Yaari Jab Kisi Se BadhTi Hai,
Peeth Pichhe Use Samjhate Hain Log,
Agar Bhool Se Koyi Tareef Kare Meri,
Us Baat Ko Wahin Dafnate Hain Log,
Mera Dushman Jo Kahin Pe Mil Jaye,
Use Tahedil Se Gale Lagate Hain Log,
Sach Kah Deta Hun Kisi Ke Muh Par,
Meri Isi Fitrat Se Ghabrate Hain Log.