Sad Shayari, Apne Seene Se Lagaye Huye Umeed

Apne Seene Se Lagaye Huye Umeed Ki Laash,
Muddaton Zeest Ko Nashad Kia Hai Main Ne,
Too Ne To Aik Hi Sadme Se Kia Tha Do Char,
Dil Ko Har Tarha Se Barbad Kia Hai Main Ne. 😔

अपने सीने से लगाए हुए उम्मीद की लाश,
मुद्दतों जीस्त को नाशाद किया है मैंने,
तूने तो एक ही सदमे से किया था दो-चार,
दिल को हर तरह से बर्बाद किया है मैंने! 😔

Dard Shayari, Woh to apne dard

Woh To Apne Dard Ro-Ro Ke Sunate Rahe,
Humari Tanhayion Se Ankh Churate Rahe,
Aur Hume Bewafa Ka Naam Mila..
Kyunki, Hum Har Dard Muskura Kar Chipate Rahe. 💔

वो तो अपने दर्द रो-रो के सुनते रहे,
हमारी तन्हाइयों से आँख चुराते रहे,
और हमें बेवफा का नाम मिला..
क्योंकि, हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे! 💔

Sad Shayari, Sukun apne dilka

सुकून अपने दिलका मैंने खो दिया,
खुद को तन्हाई के समंदर मे डुबो दिया,
जो थी मेरे कभी मुस्कराने की वजह,
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया.

Sukun apne dilka maine kho diya,
Khud ko tanhai ke samandar mai dubo diya,
Jo thi mere kabhi muskrane ki wajah,
Aaj uski kami ne meri palko ko bhigo diya.

Love Shayari, Haal aapne dil ka

हाल अपने दिल का,
मैं तुम्हें सुना नहीं पाती हूँ..
जो सोचती रहती हूँ हरपल,
होंठो तक ला नहीं पाती हूँ..
बेशक बहुत मोहब्बत है,
तुम्हारे लिए मेरे इस दिल में..
पर पता नहीं क्यों तुमको,
फिर भी मैं बता नहीं पाती हूँ..

Hindi Shayari, Aapne ghar ki izaat sab ko

अपने घर की इज्ज़त सब को प्यारी लगती है
गैरों की बहन बेटी क्यों अबला नारी लगती है,

दुसरो की बहन बेटी को छेड़ने में बड़ा मजा आता है
खुद की बहन बेटी को कोई देखे तो मिर्ची क्यों लगती है,

अपनी गर्ल फ्रेंड की हर बात बड़ी अच्छी लगती है
बहन का बॉय फ्रेंड बने तो क्यों दिल में आग लगती है,

किसी का बलात्कार हो जाये खबर गरम लगती है
खुद के साथ यही बीते तो क्यों फिर शर्म लगती है,

मुझ को तो हर बहन बेटी अपनी सी लगती है
बस घर को चलाने वाली लक्ष्मी सी लगती है,

इज्ज़त हर घर की एक जैसी ही होती है
बहन बेटी सब की बड़ी प्यारी सी होती है।

Romantic Shayari, Tere jism pe apne jism ko rakhu

~ Jism ~
Tere jism pe apne jism ko rakhu,
Tere honton ko apne honton se maslu,
Tujhe pyar main itni shiddat se karu,
Ki us mithe dard se teri aah nikal jaye,
Dard se teri aankho se aasu jhalak jaye,
Or tu tan se or mann se sirf meri ho jaye,
Badan se tere lipta rahon or subha ho jaye,
Subha tujse jb main puchu teri raat ka aalam,
Tu sharma kar mere seene se lipat jaye!!

Apne hisse ki zindagi to hum, Shayari

Apne hisse ki zindagi to hum kabke jee chuke,
Ab to sirf dhadkanon ka lihaj karte hain,
Kya karen is duniya walon ka,
Jo aakhari dhadkano pe bhi aitaraz karte hain.

Aaj Maine Apne Fir Souda Kiya, Shayari

Aaj Maine Apne Fir Souda Kiya,
Aur Fir Main Door Se Dekha Kiya,

Zindagi Bhar Mere Kaam Aaye Usul,
Ek Ek Karke Unhe Becha Kiya,

Bandh Gayi Thi Dil Mein Kuchh Umeed Si,
Khair Tumne Jo Kiya Achha Kiya,

Kuchh Kami Apni Wafaon Mein Bhi Thi,
Tumse Kya Kahte Ki Tumne Kya Kiya,

Kya Batau Kon Tha Jisne Mujhe,
Is Bhri Duniya Mein Hai Tanha Kiya.

Ek Din Sapne Mein Aakar, Shayari

Ek Din Sapne Mein Aakar Humse Kaha Khuda Ne Yeh,
Tune Kiya Bharosa Sabhi Par Tujhe Iski Saja Milegi,
Main Kya Karun Teri Kismat Hi Aisi Hai Mere Ajij,
Jiske Saath Bhi Tu Wafa Karega Usi Se Tujhko Jafa Milegi.