Love Shayari, Yakin nahi tujhe agar

Yakin nahi tujhe agar, to aajmaa ke dekh le,
ek baar tu, jara muskura ke dekh le
jo na socha hoga tune, wo milega tujhko bhi,
ek baar apne kadam, ko badha ke dekh le.

यकीन नहीं तुझे अगर, तो आज़मा के देख ले,
एक बार तू, जरा मुस्कुरा के देख ले,
जो ना सोचा होगा तूने, वो मिलेगा तुझको भी,
एक बार आपने कदम, बढ़ा के देख ले।

Yaad Shayari, Jaane us shakhs ko

Jaane us shakhs ko kaisa ye hunar aata hai,
Raat hoti hai to ankhoo main utar aata hai,
main us ke khyaal se niklu to kahan jaau,
wo meri soch ke har raste pe nazar aata hai.

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।

Funny Shayari, Nakhre aap ke toba-toba

Nakhre aap ke toba-toba,
gajab aapka style hai,
message to aap kabhi karte nahi,
bas halla macha rakha hai ki..
hamare pass bhi mobile hai!!

नखरे आपके तौबा-तौबा
गजब आपका स्टाईल है,
मेसेज तो आप कभी करते नहीं,
बस हल्ला मचा रखा है की..
हमारे पास भी मोबाईल है।

2 Line Shayari, Main tera aashiq hoon

में तो आशिक़ हु सिर्फ एक बार मरूँगा,
लेकिन मेरे ‎प्यार‬ की सच्चाई जानकर वो बार बार मरेंगी।


इंतेजार भी कितनी अजीब चीज हे ना खुद करे तो,
गुस्सा आता है, और.. दूसरा कोई करे तो अच्छा लगता है।


सुनो! या तो मिल जाओ, या बिछड जाओ,
यू साँसो मे रह कर बेबस ना करो।


कुछ रिश्ते दरवाज़े खोल जाते है,
या तो दिल के, या तो आँखों के।


उनसे कह दो कोई जाकर के की हमारी सजा कुछ कम कर दे,
हम पेशे से मुजरिम नही है बस गलती से इश्क हुआ था।


मसला तो सिर्फ एहसासों का है, जनाब,
रिश्ते तो बिना मिले भी सदियां गुजार देते हैं।


आदत नहीं है मुझे सब पे फ़िदा होने की पर तुझ में,
कुछ बात ही ऐसी है की दिल को समझने का मौका ही नहीं मिला।


हलकी फुलकी सी होती है जिन्दगी,
बोझ तो ख्वाहिशों का होता है।


हमारे महफिल में, लोग बिन बुलाये आते है,
क्यूकी यहाँ स्वागत में, फूल नहीं, दिल बिछाये जाते है।


तेरा अहसास.. साथ साथ बहुत नज़ाकत से मेरे साथ रहती है,
ख़्वाबों में भी.. साथ साये की तरह ही साथ साथ चलती है।

2 Line Shayari, Theek likha tha

ठीक लिखा था मेरे हाथों की लकीरों में,
तू अगर प्यार करेगा तो बिखर जायेगा।


सुना है उन्होंने इरादा किया है खामोश रहने का,
हम भी देखें हमारी मोहब्बत में असर कितना है।


जिस दिन बंद होठों से मोहब्बत पढोगे,
मुझसे शिकायत करना बंद कर दोगे।


बात मोहब्बत की थी, तभी तो लूटा दी जिंदगी तुझ पे,
जिस्म से प्यार होता तो, तुझ से भी हसीन चेहरे बिकते है, बाजार में।


तुम्हारी प्यार भरी निगाहों को हमें कुछ ऐसा गुमान होता है,
देखो ना मुझे इस कदर मदहोश नज़रों से कि दिल बेईमान होता है।


मेरी मोहब्बत का अंदाजा मत लगाना मेरी जान,
हिसाब मैं लूंगा नहीं, और चुकता तुम कर नहीं पाओगी।


जैसे जैसे तू हसीन दिखने लगी है,
मेरी कलम और भी अच्छी शायरी लिखने लगी है।


तुम कभी गलतफहमी में रहते हो.. कभी उलझन में रहते हो,
इतनी जगह दी है तुमको दिल में.. तुम वहाँ क्यों नहीं रहते हो।


यूँ तो एक आवाज़ दूँ.. और बुला लूँ तुम्हें,
मगर कोशिश ये है कि.. खामोशी को भी आज़मा लूँ ज़रा।


खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है,
तेरे ग़म को ज़माने से मैं छुपाऊं कैसे।

2 Line Shayari, Teri niyat hi nahi thi

तेरी नियत ही नहीं थी साथ चलने की,
वरना निभाने वाले रास्ता देखा नहीं करते।


कौन कहता है हम झूठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत पूछ के तो देखिये।


शौक से बदलो मगर इतना याद रखना
अगर हम बदले तो करवट बदलते रह जाओऊगे।


उस से नफ़रत करता तो उसकी अहमियत बढ़ जाती,
मैंने माफ़ करके उसको, शर्मिंदा कर दिया।


लाखो अदाओ की अब जरुरत ही क्या है
जब वो फिदा ही हमारी सादगी पर है।


हद करते हो यार तुम भी,
इतना प्यार वो भी सबके सामने।


टुकड़े पड़े थे राह में किसी हसीना की तस्वीर के,
लगता है कोई दीवाना आज समझदार हो गया।


मोहब्बत करने की बात हो तो किसी से भी कर लेंगे,
मगर जो मोहब्बत होने की बात है वो तो बस तुमसे है।


थोड़ा तो ऐतबार किया होता तूने मुझपर,
मुहब्बत की है तुमसे.. कोई फरेबी नहीं।


बेशक तू बदल ले अपने आप को लेकिन ये याद रखना
तेरे हर झूठ को मेरे सिवा कोई समझ नहीं सकता।

Hindi Shayari, Koshish na kar tu

Koshish na kar tu sabhi ko khush rakhne ki..
naraj to yaha kuchh log bahgwaan se bhi hai,
mann ki baat keh dene se pesle ho jaate hain,
aur mann me rakh lene se fasle ho jaate hain.

कोशिश न कर तू सभी को ख़ुश रखने की,
नाराज तो यहाँ कुछ लोग भगवान से भी हैं,
मन की बात कह देने से फैसले हो जाते हैं,
और मन में रख लेने से फासले हो जाते हैं!

2 Line Shayari, Na peshi hogi na gawah

ना पेशी होगी.. ना गवाह होगा,
जो भी उलझेगा मोहब्बत से.. वो सिर्फ तबाह होगा।


कुछ शिकायतें बनी रहें रिश्तों में तो अच्छा है,
चाशनी मे डूबे रिश्ते अक्सर वफादार नहीं होते।


हादसे कुछ दिल पे ऐसे हो गये,
हम समंदर से भी गहरे हो गये।


बस इबादत में कमी है ज़नाब,
वरना ख़ुदा तो हर जग़ह मौजूद है।


हुस्न वाले वफ़ा नहीं करते, इश्क वाले दगा नहीं करते,
जुल्म करना तो इनकी आदत है, ये किसी का भला नहीं करते।


हम आज भी शतरंज़ का खेलअकेले ही खेलते हे,
क्युकी दोस्तों के खिलाफ चालचलना हमे आता नही।


सज़दे कीजिये, या माँगिये दुआयें,
जो आपका है ही नही, वो आपका होगा भी नही।


फूल यूँ ही नही खिल जाते साहब,
बीज को दफन होना पड़ता है।


जरुरी नहीं है कुछ तोड़ने के लिए पत्थर ही मारा जाए,
अंदाज बदल के बोलने से भी बहोत कुछ टूट जाता है।


उनकी चाल ही काफी थी इस दिल के होश उड़ाने के लिए,
अब तो हद हो गई जब से वो पाँव में पायल पहनने लगे।

2 Line Shayari, Guftagu karte rahiye

गुफ्तगू करते रहिये थोड़ी थोड़ी सभी दोस्तो से,
जाले लग जाते है अक्सर बंद मकानों में भी।


बहुत ही आसान है जमीं पे आलीशान मकानों का बना लेना,
दिल में जगह बनाने में जिन्दगी गुजर जाया करती है।


मुझे तो आदत है तुम्हें याद करने की,
अगर हिचकियाँ आएँ तो माफ़ करना।


बेचैनियां बाजार में, नहीं मिला करती यारों,
बाँटने वाला, कोई बहुत नज़दीकी होता है।


दुनिया में सब से ज्यादा वजनदार,
खाली जेब होती है साहेब, चलना मुश्किल हो जाता है।


रूबरू आपसे मिलने का मौका रोज नहीं मिलता,
इसलिए शब्दों से आप सब को छू लेता हूँ।


बड़ी आरूजु थी महबुब को बेनकाब देखें,
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गई।


उस शक्श से फ़क़त इतना सा ताल्लुक है मेरा,
वो परेशान होता है तो मुझे नींद नही आती है।


राख होता हुआ वजूद मुझसे थक कर सवाल करता है,
मोहब्बत करना तेरे लिए इतना ही जरुरी था क्या।


इससे बढ़कर और क्या सितम होगा खुदा,
वो चाहते भी है और कहते भी नहीं।

Hindi Shayari Poem, Mehnat se utha hoon

Mehnat se utha hoon, mehnat ka dard jaanta hoon,
aashma se jyada, zami ki kdra jaanta hoon,

Lacheela ped tha jo jhel gaya aandhiya,
main magroor darakhton ka hashra jaanta hoon,

Chote se bada banana aashan nahi hota,
zindagi mein kitna zaroori hai sabra jaanta hoon,

Mehnat badhi to kishmat bhi badh chali,
chhalon me chipee lakeeron ka asar jaanata hoon,

Bewaqt, be wajah, be hisab mushkura deta hoon,
aadhe dushmano ko to yun hi hara deta hoon,

Kafi kuch paaya par apna kuch nahi maana,
Kyunki ek din raakh main milna hai me ye jaanta hoon!

मेहनत से उठा हूँ, मेहनत का दर्द जानता हूँ,
आसमाँ से ज्यादा जमीं की कद्र जानता हूँ।

लचीला पेड़ था जो झेल गया आँधिया,
मैं मगरूर दरख्तों का हश्र जानता हूँ।

छोटे से बडा बनना आसाँ नहीं होता,
जिन्दगी में कितना जरुरी है सब्र जानता हूँ।

मेहनत बढ़ी तो किस्मत भी बढ़ चली,
छालों में छिपी लकीरों का असर जानता हूँ।

बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ!!

काफी कुछ पाया पर अपना कुछ नहीं माना,
क्योंकि एक दिन राख में मिलना है ये जानता हूँ।